©2019 by revolution blog.

May 19

बुजुर्ग का घर में महत्व

0 comments

 

एक शहर में एक परिवार रहता था| जिस परिवार में एक बुजुर्ग, उसकी पत्नी, और उसके छह बच्चे रहते थे | सारे बच्चो की शादी हो चुकी थी| सब अपने परिवार के साथ खुशहाली से रहते थे| सारे बच्चे शादी के बाद अलग अलग शहर में जाकर बस गए| बुजुर्ग और उसकी पत्नी का मन्न होता उस बच्चे के पास रहने चले जाते| सब में बहुत प्यार था| सारे भाई बहन दूर दूर होकर भी रोजाना फ़ोन पर बाते करते, आपस में सुख और दुःख बताते और दूसरे की पेरशानी का हल निकलते| त्यौहार के वक़्त सब एक जगह इकठ्ठा होकर त्यौहार को मनाते| घर में किसी भी बात को लेकर लड़ाई नहीं थी, ना ही किसी के बीच में किसी भी बात को लेकर मन मुटाव था|

 

लेकिन बुगुर्ज को कैंसर हो गया और बुगुर्ज की तबियत ख़राब होने लग गयी| कुछ दिनों बाद ही बुजुर्ग का स्वर्गवास हो गया| बुजर्ग के मरने के कुछ दिनों बाद ही बच्चो में सपंति को लेकर लड़ाई होने अलग गयी| बुजुर्ग की पत्नी को भी पैसो का लालच तह इसलिए वह भी इस लड़ाई का हिस्सेदार बन गयी और ना ही लड़ाई को ख़त्म करवा पायी| सब अपने मन्न की करने लगे क्योकि इनको समझाने वाला अब कोई नहीं बचा था| सपंति के कारण भाई बहन एक दूसरे की शक्ल को देखना पसंद नहीं करते| उसके शहर में जाते लेकिन भाई या बहन से नहीं मिलकर आते| इसी कारण से पुरे समाज में घर की बदनामी होने लगी| जो भी बुजुर्ग ने घर की समाज में इज्जत बनाई थी वह बच्चो ने सपंति के कारण थू-थू करवा दी| आज सब भाई बहन अपनी सपंति का हिस्सा लेकर अलग रहने लगे| और ना ही अब कोई किसी से बात करता ना ही मिलता| और इसी कारण से बाकि परिवार वाले इनके मज़े लेने लगे|

 

इसलिए कहते है कि एक बुजर्ग का साया होना तो घर में आवश्यक है, तभी घर स्वर्ग बन सकता है, नहीं तो घर.बर्बाद हो जाता है| अगर एक समजदार व्यक्ति के घर का मुख्य हो तो फिर घर में किसी भी बात को लेकर झगड़ा नहीं होता, ना ही किसी बात की पेरशानी आती| क्योकि पुराने ज़माने के लोगो में ज्यादा समझने की बुद्धि होती है और सहनशीलता होती है| जो आजकल के लोगो में बिलकुल भी नहीं है|

New Posts
  • इस प्लेटफार्म की तरह अपनी जिंदगी की डोर है, क्योकि प्लेटफार्म पर भी ट्रैन आती है फिर चली जाती है, फिर नयी आती है|| ऐसे ही अपनी जिंदगी में लोग आते है चले जाते है फिर नए आते है|| इसलिए किसी के जाने से कभी दुखी मत हो क्योकि क्या पता वह तुम्हारे अच्छे के लिए ही गया हो ||
  • क्रोध बनी हुई चीज को बिगाड़ सकता है और प्यार बिगड़ी हुई चीज को बना सकता है|| क्रोध रिश्तो के बीच एकता को खत्म कर सकता है और प्यार बिगड़े हुए रिश्तो के बीच में एकता बना सकता है || क्रोध से दुनिया में आप कही जीत नहीं सकते और प्यार से दुनिया में आप कही भी जीत प्राप्त कर सकते है || क्रोध से दोस्त भी दुश्मन बन जाता है और प्यार से दुश्मन भी दोस्त बन जाता है || निष्कर्ष क्रोध अनेकता का प्रतीक है और प्यार एकता का प्रतीक है ||
  • Everyone see dream at night during sleep, but someone fulfill their during day time. Everyone have dream to do something different but only some are achieve their dreams by their hardwork. Hardwork never waste , it definitely gives you something according to their hardwork. If you success in a dreams , then you will be enjoy your full life till death with joyfull.